Skip to main content

Posts

Showing posts from January, 2021

Mann Ki Baat: दिल्ली हिंसा पर बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख देश दुखी हुआ

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2021 के पहले मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत पीएम मोदी ने नए साल की उपलब्धियों से की। पीएम मोदी ने कहा, जब मैं मन की बात करता हूं। ऐसा लगता है कि मैं आप लोगों के बीच आपके परिवार के साथ उपस्थित हूं। आज जनवरी 2021 का आखिरी दिन है। लगा नहीं एक महीना बीत गया। थोड़े दिन पहले ही तो नया साल शुरू हुआ था। इस बीच बजट सत्र भी शुरू हो गया है। पीएम मोदी ने कहा, मन की बात में श्रोताओं को क्या पसंद आता है, ये आप बेहतर जानते हैं। लेकिन मुझे मन की बात में सबसे अच्छा लगता है कि मुझे बहुत कुछ जानने-सीखने और पढ़ने को मिलता है। एक प्रकार से परोक्ष रूप से आप सबसे जुड़ने का मौका मिलता है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति जी द्वारा संसद के संयुक्त सत्र को सम्बोधन के बाद ‘बजट सत्र’ भी शुरू हो गया है।  इन सभी के बीच एक और कार्य हुआ, जिसका हम सभी को बहुत इंतजार रहता है - ये है पद्म पुरस्कारों की घोषणा। इस साल भी, पुरस्कार पाने वालों में, वे लोग शामिल हैं, जिन्ह

Mann Ki Baat: दिल्ली हिंसा पर बोले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी- 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देख देश दुखी हुआ

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने साल 2021 के पहले मन की बात कार्यक्रम की शुरुआत पीएम मोदी ने नए साल की उपलब्धियों से की। पीएम मोदी ने कहा, जब मैं मन की बात करता हूं। ऐसा लगता है कि मैं आप लोगों के बीच आपके परिवार के साथ उपस्थित हूं। आज जनवरी 2021 का आखिरी दिन है। लगा नहीं एक महीना बीत गया। थोड़े दिन पहले ही तो नया साल शुरू हुआ था। इस बीच बजट सत्र भी शुरू हो गया है। पीएम मोदी ने कहा, मन की बात में श्रोताओं को क्या पसंद आता है, ये आप बेहतर जानते हैं। लेकिन मुझे मन की बात में सबसे अच्छा लगता है कि मुझे बहुत कुछ जानने-सीखने और पढ़ने को मिलता है। एक प्रकार से परोक्ष रूप से आप सबसे जुड़ने का मौका मिलता है। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि 26 जनवरी को तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि राष्ट्रपति जी द्वारा संसद के संयुक्त सत्र को सम्बोधन के बाद ‘बजट सत्र’ भी शुरू हो गया है।  इन सभी के बीच एक और कार्य हुआ, जिसका हम सभी को बहुत इंतजार रहता है - ये है पद्म पुरस्कारों की घोषणा। इस साल भी, पुरस्कार पाने वालों में, वे लोग शामिल हैं, जिन्ह

प्रबुद्ध भारत पत्रिका की 125वीं वर्षगांठ पर बोले पीएम मोदी- भारत ने कोरोनाकाल में दूसरे देशों को मदद की, यही प्रबुद्ध भारत की संकल्पना

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को स्वामी विवेकानंद द्वारा शुरू की गई पत्रिका प्रबुद्ध भारत की 125वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक कार्यक्रम को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि जब तक गरीबों का विकास नहीं होगा तब तक देश का विकास नहीं हो सकता। अगर गरीब बैंकों तक नहीं पहुंच सकते तो बैंकों को गरीबों तक पहुंचाया जाए। यही जन धन योजना ने किया। अगर गरीब स्वास्थ्य सेवाओं तक नहीं पहुंच सकते तो स्वास्थ्य सेवाओं को गरीबों तक पहुंचाया जाए, यही आयुष्मान भारत योजना ने किया है। पीएम मोदी ने कहा, स्वामी विवेकानंद भारत को प्रबुद्ध बनाना चाहते थे। वे गरीबों के लिए कल्याण और उत्थान पर ध्यान देते थे। स्वामी विवेकानंद के फोकस में दरिद्र नारायण थे। पीएम ने कहा,  गरीबों के विकास के बिना देश का विकास संभव नहीं है। पीएम ने कहा विवेकानंद के सिद्धातों पर चलते हुए कोरोना काल के दौरान हमने न सिर्फ समस्या का देखा, बल्कि उसका समाधान निकाला। हमने न सिर्फ पीपीई किट का प्रोडक्शन किया, बल्कि दुनिया की फॉर्मेसी बन गए। भारत कोरोना वैक्सीन विकसित करने में सबसे आगे रहा। हम इस क्षमता का इस्तेमाल

PM मोदी के बयान पर राकेश टिकैत का पलटवार, कहा- क्या तिरंगा सिर्फ प्रधानमंत्री का है ?

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  रविवार को मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा था कि - इस महीने 26 जनवरी को लाल किले पर तिरंगे का अपमान देखकर देश बहुत दुखी हुआ है " इस वाक्य में पीएम मोदी ने परोक्ष रुप से यह टिप्पणी किसान नेता और कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे राकेश टिकैत के खिलाफ हो सकती है। जिसपर जवाब में किसान नेता टिकैत ने कहा है कि क्या तिरंगा सिर्फ प्रधानमंत्री का है ? राकेश टिकैत ने कहा कि सारा देश तिरंगे से प्यार करता है, सिर्फ प्रधानमंत्री ही नहीं। इसके बाद जब उनसे सरकार और किसानों के बीच कृषि कानूनों पर बातचीत फिर शुरू करने पर पूछा गया, तो राकेश टिकैत ने कहा कि - बंदूक की नोक पर बातचीत नहीं होगी। हम प्रेशर में बातचीत नहीं करेंगे, हम बातचीत करेंगे लेकिन सरकार कंडीशन रख कर बात ना करे।     बता दें कि, 26 जनवरी को किसानों के ट्रैक्टर आंदोलन के दौरान कुछ उपद्रवियों ने लाल किले पर उस स्थान पर निशान साहिब का झंडा फहरा दिया था, जहां प्रधानमंत्री हर साल स्वतंत्रता दिवस पर झंडा फहराते हैं। इस आंदोलन में कई किसानो के साथ कई पुलिस कर्मी भी घायल हुए थे।

Coronavirus in India: देश में 24 घंटे के भीतर मिले 13,052 नए मरीज, 127 लोगों की मौत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारत में कोरोना वायरस संक्रमण का असर कम होता जा रहा है। देश में कोरोना का टीका आने के बाद से लोगों को राहत भी मिली है। टीकाकरण का अभियान पूरे देश में जारी है। केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक देश में कोरोना संक्रमण के 24 घंटे में 13 हजार 52 नए केस सामने आए हैं। India reports 13,052 new COVID-19 cases, 13,965 discharges, and 127 deaths in the last 24 hours, as per Union Health Ministry Total cases: 1,07,46,183 Total recoveries: 1,04,23,125 Death toll: 1,54,274 Active cases: 1,68,784 pic.twitter.com/WgU7DiXthz — ANI (@ANI) January 31, 2021 इस दौरान 13 हजार 965 लोग ठीक भी हुए हैं। वहीं, 127 लोगों की जान गई है। कोरोना वायरस को भारत में एक साल और एक पूरा हो चुका है। 30 जनवरी 2020 को कोरोना का पहला केस केरल में सामने आया था। अबतक ये संख्या करोड़ का आंकड़ा पार कर चुकी है।  देश में कोरोना से संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1 करोड़ 7 लाख 46 हजार 183 पर पहुंच गया है। वहीं 1 करोड़ 4 लाख 23 हजार 125 लोग इस बीमार से स्वस्थ भी हो चुके हैं। को

बुजुर्गों को डंपर में डालकर छोड़ने का मामला: बेघर बुजुर्गों की मदद को आगे आए सोनू सूद, एक्टर ने कहा- मैं इनका ध्यान रखूंगा

डिजिटल डेस्क, मुंबई। इंदौर नगर निगम के रिमूवल विभाग के शुक्रवार को सामने आए अमानवीय चेहरे की देशभर में निंदा हो रही है। वहीं लॉकडाउन के दौरान हजारों लोगों को घर पहुंचाने में मदद करने वाले फिल्म एक्टर सोनू सूद अब इन बेसहारा और बेघर बुजुर्गों की मदद करेंगे। उन्होंने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर इंदौर में शुक्रवार हुए कृत्य पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। हमें छत देने की कोशिश करना चाहिए सोनू सूद ने वीडियो में नगर निगम और सरकार का नाम लिए बिना यह कहा कि  इंदौरवासी भाई बहनों से गुजारिश करूंगा कि मैंने कल एक खबर देखी। जहां बुजुर्गों को इंदौर शहर सीमा से बाहर रखने का प्रयत्न किया गया।  उन्होंने कहा मैं और आप सब मिलकर इन्हें छत देने की कोशिश करना चाहिए। मैं बुजुर्गों को उनका हक दिलाना चाहता हूं और उनके सिर पर छत दिलाना चाहता हूं। उनके खाने पीने का प्रबंध और ध्यान रखने की कोशिश करना चाहता हूं, लेकिन यह सब कुछ इंदौरवासियों के बिना मुश्किल है।    मां बाप को अलग रखने वालों के लिए सीख सोनू सूद ने इंदौर की घटना का उदाहरण देते हुए बच्चों से गुजारिश कि है कि जो बच्चे मां बाप को अलग छोड़ देते है।

Farmer Protest: गणतंत्र दिवस हिंसा मामले में अब तक 38 FIR और 84 गिरफ्तारियां, सिंघु, टीकरी, लाल किले पहुंची फोरेंसिक टीम

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी में 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान भड़की हिंसा के बाद, दिल्ली पुलिस ने दंगा करने और सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के विभिन्न मामलों में 38 केस दर्ज किए हैं और इस सिलसिले में 84 लोगों को गिरफ्तार किया है। दिल्ली पुलिस द्वारा पंजाब और हरियाणा के विभिन्न स्थानों पर कई छापे मारे जा रहे हैं। गणतंत्र दिवस पर लाल किले पर हुई बर्बरता को लेकर दिल्ली पुलिस ने शनिवार को जालंधर में अलग-अलग जगहों पर छापेमारी की।  विदेशी संगठनों और व्यक्तियों की भूमिका की भी जांच कर रही पुलिस सूचना के आधार पर दो व्यक्तियों - तरनतारन के जुगराज सिंह और नवप्रीत सिंह - ने 26 जनवरी को लाल किले की प्राचीर पर निशान साहिब का झंडा फहराया था। इन्हें  गिरफ्तार करने के लिए दिल्ली पुलिस ने जालंधर के बस्ती जवाला खेल इलाके में भी छापे मारे। गणतंत्र दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में भड़की हिंसा में विदेशी संगठनों और व्यक्तियों की भूमिका की भी पुलिस जांच कर रही है, जिससे जांच का दायरा और बड़ा हो गया है। लाल किले पहुंची फोरेंसिक टीम वहीं 26 जनवरी को हुई हिंसा के सबूत

इजराइली दूतावास के बाहर धमाका: जैश-उल-हिंद नाम के संगठन ने ली ब्लास्ट की जिम्मेदारी, प्रोफेशनल ने बनाया था बम

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। इजराइली दूतावास के पास शुक्रवार शाम को हुए ब्लास्ट  की जिम्मेदारी जैश-उल-हिंद नाम के संगठन ने ली है। वहीं ब्लास्ट वाली जगह एक गुलाबी रंग का कपड़ा या दुपट्टा मिला है। ये आधा जला हुआ है। गुलाबी दुपट्टे का रहस्य क्या है इसका पता लगाया जा रहा है। इस बीच इस ब्लास्ट को लेकर एक नया खुलासा हुआ है, जिसमें कहा गया है कि रेकी के बाद आईईडी को प्लांट किया गया। जांच में पता चला है कि जिस बम का इस्तेमाल किया गया था, उसकी बनावट और दूसरे डिटेल से पता चलता है कि उसे एक प्रोफेशनल ने तैयार किया था। जांच एजेंसियों के सूत्र बताते हैं कि बम तैयार करने वाले व्यक्ति को पहले से इसकी ट्रेनिंग दी गई थी। इस धमाके की जांच के लिए देश की टॉप एजेंसियां लगी हुई हैं। NSG इस्तेमाल विस्फोटकों का विश्लेषण कर रही है, जबकि NIA और दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल भी जांच कर रही है। उधर इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा कि इजरायल के लोगों की सुरक्षा के लिए भारत पर भरोसा है। भारत इजरायलियों की सुरक्षा सुनिश्चित करेगा। ब्लास्ट के समय एम्बेसी के आसपास 45 हजार मोबाइल फोन एक्टिव थे सूत्रों के हवाले से

Coronavirus one year: लॉकडाउन, पलायन, वैक्सीन जानें 365 दिन में कोरोना ने कैसे बदली लोगों की जिंदगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  कोरोना वायरस संक्रमण का पहला केस भारत में 30 जनवरी 2020 को केरल में सामने आया था। तब देश के ज्यादा लोगों को इस बीमारी के बारे में कोई जानकारी भी नहीं थी। ये वो महीना था जब कोरोना दुनियाभर में तेजी से फैल रहा था। भारत से पहले दुनिया के 18 देशों में कोरोना के केस मिल चुके थे। फरवरी में भारत में 3 केस सामने आ चुके थे, लेकिन मार्च के बाद सबकुछ बदलना शुरू हो गया था।  पहला मरीज मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को संबोधित करते हुए 24 मार्च को संपूर्ण लॉकडाउन का ऐलान किया। ये भारत के इतिहास में पहली बार हुआ था। जब इतनी बड़ी आबादी को घरों में कैद कर दिया गया।ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के मुताबिक भारत में दुनिया का सबसे सख्त लॉकडाउन लगाया गया। आज कोरोना का पहला मामला आए एक साल पूरा हो चुका है। पिछले 12 महीने में कोरोना देश में बहुत कुछ बदल दिया है। कोरोना के दौर में लॉकडाउन, मजदूरों का पलायन, आत्मनिर्भर भारत, वैक्सीन से लेकर बहुत कुछ देखने को मिला।  . Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News . . . . . Coronavirus completes one year

किसान आंदोलन में आए बदलाव पर टिकैत ने कहा, तूफान में सूखी टहनी-डालियां टूट गईं, मजबूत स्तम्भ बरकरार 

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)। गणतंत्र दिवस के दिन लाल किले पर हुई घटना के बाद से आंदोलन पर काफी असर पड़ा। किसान संगठनों पर दबाब बनना शुरू हो गया और उनपर तरह-तरह के आरोप लगने लगे, हालांकि भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रिय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि, एक तूफान आया था, इस तूफान में टहनी, डालियां और खोखले दऱख्त टूट गए, अब सिर्फ मजबूत स्तम्भ खड़े हैं। दरअसल, दिल्ली की सीमाओं पर इस आंदोलन की शुरूआत नवंबर 2020 में हुई। गाजीपुर बॉर्डर पर टिकैत के समर्थकों की भीड़ कम थी। हालांकि मौजूदा समय में टिकैत के ही समर्थक ज्यादा दिखाई दे रहे हैं। भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने आईएएनएस को बताया, ज्यादा भीड़ के लिए व्यवस्था करनी पड़ती है, खेत का काम छूटेगा और यहां कोई काम नहीं है। आंदोलन में आप पांच आदमी बिठा दो और किसान संगठन का झंडा सड़क के बीच में लगा दो, किसी सरकार की ताकत नहीं की उस झंडे को भी हाथ लगा दे। आंदोलन भीड़ से नहीं चलता, आंदोलन का मकसद क्या है उससे चलता है। उन्होंने आगे कहा कि, इस तूफान में हल्की टहनियां, डालियां और खोखले दऱख्त थे, वह टूट गए, अब सिर्फ मजबूत स्तम्भ खड़े हैं। गाजिय

किसान आंदोलन का 66वां दिनः सरकार ने इंटरनेट, बिजली-पानी बंद किया, पुलिस ने NH-24,गाज़ीपुर बॉर्डर का मार्ग 

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)। दिल्ली की हरियाणा सीमा पर स्थित सिंघु बॉर्डर पर किसानों और ग्रामीण के बीच हिंसक संघर्ष के एक दिन बाद लेबर पार्टी के ब्रिटिश सांसद तन्मनजीत सिंह ढेसी ने चेतावनी दी है कि अगर सत्ता में बैठे लोगों ने शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ दुर्व्यवहार किया तो इससे उनका आंदोलन और मजबूत होगा। ढेसी ने ट्वीट कर कहा कि मैं यह देखकर हैरान हूं कि किस तरह भीड़ और पुलिस पानी, बिजली और इंटरनेट की सुविधा से वंचित करके किसानों को डराने और धरना-स्थल से हटाने की कोशिश कर रही है। ब्रिटिश सांसद तन्मनजीत सिंह ढेसी ने  एक अन्य ट्वीट में कहा कि हिंसा के लिए दोषियों को नहीं बख्शा जा सकता, लेकिन अगर सत्ता में बैठे लोग शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन कर रहे किसानों के साथ दुर्व्यवहार करते हैं तो इससे उनका आंदोलन और मजबूत होगा। इससे पहले पंजाब मूल के ब्रिटिश सांसद ने किसानों के मौजूदा प्रदर्शन को लेकर 100 सांसदों द्वारा हस्ताक्षरित एक पत्र ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को भेजा था। इस पत्र के माध्यम से उन्होंने इस मुद्दे को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के समक्ष उठाने के लिए ज

ईरान का ब्लास्ट से कनेक्शन ! इजरायली दूतावास धमाके की जांच में जुटी भारतीय जांच एजेंसी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली।  राजधानी दिल्ली में शुक्रवार को एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर स्थित इजरायली दूतावास के बाहर धमाका हुआ। धमाके वाली जगह से एक लेटर मिला, जिसमें लिखा था, 'ये तो ट्रेलर है' अब जांच एजेंसियों को संदेह है कि जल्द ही कोई बड़ी घटना को अंजाम दिया जा सकता है। ये छोटा सा ब्लास्ट किसी बड़ी साजिश का संकेत हो सकता है। जानकारी के मुताबिक घटनास्थल से मिले लेटर में  2020 में मारे गए कासिम सुलेमानी और ईरान के वरिष्ठ न्यूक्लियर वैज्ञानिक मोहसिन फखरीजादेह का भी जिक्र है। इस लेटर में बदला लेने की बात भी कही गई है। भारतीय जांच एजेंसियां अलर्ट पर हैं और इस मामले की बारीकी से जांच कर रही हैं। घटना की पीछे ईरान का हाथ ! दिल्ली में इजरायली दूतावास के बाहर हुए धमाके में ईरान का हाथ होने का अंदेशा है। दरअसल, दिल्ली में शुक्रवार 29 जनवरी 2021 को हुई ब्लास्ट की घटना से पहले साल 2012 में इजरायल की एक कार में धमाका हुआ था। इस धमाके में 2 ईरानी शामिल थे। ये धमाका भी भारत में हुआ था। अब जांच एजेंसी उन लोगों की भी तलाश कर रही है। इसके साथ ही 2012 से लेकर अबतक कितने लोग ईरान से भारत आए और ग

अन्ना हजारे ने किसानों के मुद्दे पर टाला अनशन, देवेंद्र फडणवीस की मौजूदगी में किया ऐलान

डिजिटल डेस्क, अहमदनगर। सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे ने केंद्र सरकार की ओर से पारित किए गए तीन कृषि कानूनों के विरोध में शनिवार से शुरू होने वाला भूख हड़ताल रद्द करने का फैसला किया है। 83 वर्षीय सामाजिक कार्यकर्ता ने शुक्रवार देर शाम महाराष्ट्र में विपक्ष के नेता और पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस की मौजूदगी में इसकी घोषणा की। हजारे ने फड़णवीस के साथ एक बैठक के बाद कहा कि मैं लंबे समय से कई मुद्दों पर आंदोलन कर चुका हूं। शांतिपूर्वक प्रदर्शन करना कोई अपराध नहीं है। मैं तीन साल से किसानों के मुद्दे उठा रहा हूं। उन्होंने कहा कि किसान इसलिए आत्महत्या करते हैं, क्योंकि उन्हें उनकी उपज की सही कीमत नहीं मिलती। अन्ना हजारे ने 30 जनवरी से शुरू होने वाला उपवास वापस लेने की घोषणा करते हुए संवाददाताओं से कहा कि सरकार ने न्यूनतन समर्थन मूल्य (MSP) को 50 प्रतिशत तक बढ़ाने का फैसला किया है- मुझे इस संबंध में पत्र मिला है। उन्होंने आगे कहा कि अब जबकि केंद्र सरकार ने इन 15 मुद्दों पर (किसानों के लिए अन्ना हजारे की मांगें) पर काम करने का फैसला कर लिया है, तो ऐसे में मैंने कल का अनशन रद्द करने का

किसानों की महापंचायत खत्म: भाजपा पर बरसे किसान नेता, चौधरी नरेश टिकैत बोले- हम कत्ल कर सकते हैं, देश का अपमान नहीं

डिजिटल डेस्क, मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फर नगर में आज भारतीय किसान यूनियन की महापंचायत में राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने कहा कि हम लाठी-डंडे चला सकते हैं, कत्ल कर सकते हैं, ट्रैक्टर की स्पीड बढ़ा सकते हैं, लेकिन देश का अपमान कभी नहीं कर सकते। उन्होंने कहा कि चौधरी अजित सिंह को लोकसभा चुनाव में हराना हमारी भूल थी। हम झूठ नहीं बोलते हम दोषी हैं। इसी के साथ मुजफ्फरनगर किसान महापंचायत बेनतीजा खत्म हो गई।  महापंचायत में नरेश टिकैत ने कहा कि किसान के सम्मान को ठेस पहुंची है। 2002 में भी इसी प्रकार जन समूह आया था। जब किसान के मान सम्मान की बात आई, आप लोग सब भुलाकर आते हो। आप बधाई के पात्र हो। कुछ भी बात हुई आप लोग इज्जत बचा लोगे। उन्होंने कहा कि कल धरना उठाने की बात होनी थी, लेकिन भाजपा के एक विधायक की हरकत ने आंदोलन को नया रूप दे दिया है। राकेश टिकैत ने आपके आदोलन को संजीवनी दी है। भाजपा के पासे उल्टे पड़ गए हैं। सारे आरोप फर्जी साबित हो रहे हैं। हम कत्ल कर सकते हैं, लेकिन लाल किले वाले आरोप वाले काम नहीं कर सकते। नरेश टिकैत ने कहा कि अजित सिंह को हराकर भूल हुई। हम भी दोषी हैं। इ

दूतावास के बाहर धमाके पर बोले इजरायल के प्रधानमंत्री, भारत पर पूरा भरोसा वो वहां रहने वाले इजरायलियों की सुरक्षा करेंगे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली में इजरायल के दूतावास के बाहर धमाके के बाद इजरायल के प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू का बयान सामने आया है। नेतन्याहू ने कहा कि हमें भारत पर पूरा भरोसा है कि वो वहां पर रहने वाले इजरायलियों की सुरक्षा करेंगे। इससे पहले इजरायल के विदेश मंत्री गबी एश्केनजी ने  भारत में अपने समकक्ष एस. जयशंकर से फोन पर बात की। एश्केनजी ने कहा, दिल्ली में इजरायली दूतावास के पास में हुई धमाके की घटना को लेकर मैंने कुछ देर पहले भारतीय विदेश मंत्री एस. जयशंकर से फोन पर बात की। भारतीय विदेश मंत्री ने भरोसा दिलाया है कि उनके देश में सभी इजरायली राजनयिकों और केंद्रों की पूरी सुरक्षा को लेकर सरकार प्रतिबद्ध है। वहीं भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल ने इजरायल के अपने समकक्ष से बात की है। इजरायल की ओर से इसे आतंकी हमला करार दिया गया है। बता दें कि दिल्ली में इजराइली दूतावास के पास शुक्रवार शाम करीब 5 बजे विस्फोट हुआ। दूतावास की इमारत से करीब 150 मीटर की दूरी पर हुए इस ब्लास्ट में कोई घायल नहीं हुआ, लेकिन आसपास खड़ी चार से पांच गाड़ियों को नुकसान पहुंचा। दिल्ली के अति सु

Good News: फरवरी के पहले हफ्ते से फ्रंटलाइन वर्कर्स को लगाई जाएगी कोरोना की वैक्सीन

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में कोरोना के खिलाफ वैक्सीनेशन प्रोग्राम को लेकर एक अच्छी खबर आ रही है। इसके तहत फरवरी के पहले हफ्ते से फ्रंटलाइन वर्कर्स को टीका लगाया जाएगा। इनमें पुलिसकर्मी, सफाईकर्मी समेत वे लोग शामिल होंगे, जो कोरोना की लड़ाई में सबसे आगे हैं। बता दें कि 16 जनवरी से शुरू हुए वैक्सीनेशन प्रोग्राम के तहत वर्तमान में हेल्थकेयर वर्कर्स को कोविड-19 की पहली डोज दी जा रही है। कोविड-19 के इलाजरत मरीजों की संख्या 1.71 लाख हुई भारत में कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में लगातार कमी आ रही है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि कोविड-19 के इलाजरत मरीजों की संख्या कम होकर 1.71 लाख (एक लाख 71 हजार 686) हो गई है जो कुल संक्रमण का महज 1.60 प्रतिशत है जबकि राष्ट्रीय स्तर पर संक्रमण की दर कम होकर 5.50 फीसदी रह गई है। राष्ट्रीय संक्रमण दर घटकर 5.50 फीसदी पहुंची  कोरोना वायरस के लिए देश में कुल जांच 19.5 करोड़ (19 करोड़ 50 लाख 81 हजार 079) हुई और इनमें से सात लाख 42 हजार 306 जांच गुरुवार को हुई। मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रीय संक्रमण दर घटकर 5.50 फीसदी रह गई है। इसने कहा कि प

J&K: सुरक्षाबलों ने त्राल में तीन आतंकियों को एनकाउंटर में ढेर किया, एके-47, पिस्तौल और ग्रेनेड बरामद

डिजिटल डेस्क,श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में शुक्रवार को सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकवादी मारे गए। सुरक्षाबलों की संयुक्त टीम ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया। जम्मू कश्मीर पुलिस के आईजीपी विजय कुमार ने बताया कि मारे गए तीनों आतंकी स्थानीय हैं और हिज्ब से संबंध रखते हैं। जम्मू कश्मीर पुलिस ने बताया कि आतंकवादियों की मौजूदगी के बारे में जानकारी के बाद पुलिस और सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने त्राल क्षेत्र के मंदोरा में कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन चलाया। सुरक्षा बलों को देखकर आतंकवादियों ने गोलियां चलानी शुरू कर दी, जिसके बाद जवाबी कार्रवाई की गई, जिसमें तीन आतंकवादी मारे गए।  आईजीपी के अनुसार मारे गए आतंकियों में से एक पिछले साल अगस्त में आतंकवाद में शामिल हुआ था। उन्होंने बताया कि बाकी के दो आतंकी इसी साल 1 जनवरी को आतंकवाद में शामिल हुए थे। आईजीपी ने बताया कि 2 जनवरी को त्राल में एसएसबी बंकर पर ग्रेनेड दागा गया था, जिसमें 8 स्थानीय और एक जवान घायल हुआ था। आईजीपी ने बताया कि हमले में एक आतंकी मरहामा के आरिफ बशीर की पहचान हुई थी, जो आज हुई मुठभेड़ में मारा गया। इसके अलावा अन्य

Blast in Delhi: दिल्ली में इजरायली दूतावास के बाहर विस्फोट, कुछ कारें क्षतिग्रस्त

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली में शुक्रवार को इज़राइल दूतावास के पास एक कम तीव्रता वाला विस्फोट हुआ। विस्फोट से कुछ कारें क्षतिग्रस्त हो गई। इस विस्फोट में किसी तरह की चोट की सूचना नहीं है। मामले की जांच की रही है। फायर ऑफिसर प्रेम लाल ने कहा, हमें विस्फोट के बारे में शाम करीब 5:45 बजे फोन आया जिसके बाद हम मौके पर पहुंचे। घटना में किसी के घायल होने की सूचना नहीं है।  #WATCH | Delhi Police team near the Israel Embassy where a low-intensity explosion happened. Nature of explosion being ascertained. Some broken glasses at the spot. No injuries reported; further investigation underway pic.twitter.com/RphSggzeOa — ANI (@ANI) January 29, 2021 इजरायल का दूतावास डॉ एपीजे अब्दुल कलाम रोड पर स्थित है। धमाका इजरायली दूतावास से 150 मीटर दूर फुटपाथ पर हुआ है। दिल्ली पुलिस का मानना है कि ये लो इंटेंसिटी का ब्लास्ट है। किसी के घायल होने की कोई खबर नहीं है। पुलिस इसे शरारती तत्वों की करतूत बता रही है। हालांकि इसके बावजूद तमाम टीमें यहां मौजूद है जो इसकी जांच कर रही है। बता दें कि यह इलाका

सिंघु बॉर्डर पर स्थानीय लोगों और किसानों के बीच पथराव, SHO को तलवार लगी, हरियाणा के खेड़ा बॉर्डर पर तनाव बढ़ा, 17 जिलों में इंटरनेट सेवा बंद

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कृषि कानूनों को रद्द कराने की मांग पर अड़े किसानों का अांदोलन 26 जनवरी के बाद से हिंसक होता जा रहा है। शुक्रवार को दोपहर करीब एक बजे सिंघु बार्डर पर बवाल हो गया। यहां स्थानीय लोगों और प्रदर्शनकारी किसानों के बीच झड़प हो गई। यही नहीं इस दौरान बीच-बचाव कराने पहुंची पुलिस के SHO को तलवार लग गई। इस बवाल के बाद हरियाणा सरकार ने एहतियातन 17 जिलों में 30 जनवरी शाम 5 बजे तक इंटरनेट सेवा पर रोक लगा दी है। . Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News . . . . . Farmer Protest: Tension rises at Kheda border in Haryana, internet service stopped in 17 districts . . . source https://www.bhaskarhindi.com/national/news/farmer-protest-tension-rises-at-kheda-border-in-haryana-internet-service-stopped-in-17-districts-210066

सिंघु बॉर्डर पर किसानों के साथ स्थानीय लोगों की झड़प, पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागे

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)। दिल्ली पुलिस ने शुक्रवार को दिल्ली-हरियाणा की सिंघु सीमा पर सैकड़ों ग्रामीणों की भीड़ को तितर-बितर करने के लिए लाठीचार्ज किया और आंसू गैस के गोले दागे। दरअसल स्थानीय लोग इलाके को प्रदर्शनकारियों से खाली करवाना चाहते थे। झड़प में दिल्ली पुलिस का एक एसएचओ घायल हो गया। स्थानीय लोग प्रदर्शन स्थल पर पहुंचे और दो महीने से अधिक समय से स्थल पर मौजूद आंदोलनकारियों को जगह खाली करने के लिए कहने लगे। दोनों पक्षों में तीखी बहस के बाद, स्थानीय लोगों ने किसानों के तंबू पर हमला करना शुरू कर दिया। इसके बाद दोनों समूहों के बीच पथराव हुआ। दिल्ली पुलिस और सिंघु सीमा पर तैनात सुरक्षाकर्मियोंको प्रदर्शन स्थल पर भीड़ को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागने पड़े। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। अलीपुर पुलिस स्टेशन हाउस ऑफिसर सहित कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। दिल्ली पुलिस के सूत्रों के मुताबिक, कई लोगों को हिरासत में लिया गया है। भारतीय किसान यूनियन  के नरेश टिकैत ने आज कहा कि  सरकार हठधर्मी हो रही है, अगर सरकार चाहती तो फैसला बहुत जल्दी हो जाता। अगर मु

 किसान नेता की आंखों में आंसू देख फिर पलटा आंदोलन का रुख, दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मिलने पहुंचे, भाजपा समर्थक शिअद ने कहा सरकार की दादागिरी नहीं चलेगी

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन आज 65वें दिन भी जारी है। फिलहाल बॉर्डर पर किसान फिर से लौटने लगे हैं, वहीं किसान नेता राकेश टिकैत के समर्थन में आसपास के इलाकों से भी लोग आने लगे हैं। गुरुवार को उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने किसानों के धरना स्थल की बिजली काट दी थी। इसके बाद उन्होंने दिल्ली की आम आदमी पार्टी से बिजली-पानी की व्यवस्था करने की गुहार लगाई थी। शुक्रवार सुबह दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया गाज़ीपुर बॉर्डर पर किसानों के प्रदर्शनस्थल पर पहुंचे। उन्होंने कहा, "किसान नेताओं ने सीएम से पानी, बिजली और टॉयलेट्स की सुविधा के लिए निवेदन किया था। रात को ही यहां व्यवस्था कर दी गई थी। मैं निरीक्षण करने आया हूं कि कोई दिक्कत तो नहीं आ रही।"  भाजपा समर्थक शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने लगाए सरकार पर गंभीर आरोप...  शिरोमणि अकाली दल  के नेता और पंजाब के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुखबीर सिंह बादल ने कहा कि 'पिछले 6 महीने से आंदोलन कर रहे कम से कम 200-300 किसान अपनी जान गंवा चुके हैं। अब तक भारत सरकार ने उनकी बात नहीं सुन

Farmers Protest Day 65: कांग्रेस ने कहा, सड़कों पर उतरें राजनीतिक दल, अखिलेश बोले- भाजपा किसानों को भूखा-प्यासा रखकर हराना चाहती है 

डिजिटल डेस्क ( भोपाल)।  कृषि कानूनों के खिलाफ टिकरी बॉर्डर पर किसानों का विरोध प्रदर्शन आज 65वें दिन भी जारी है। फिलहाल बॉर्डर पर किसान फिर से लौटने लगे हैं, वहीं किसान नेता राकेश टिकैत के समर्थन में आसपास के इलाकों से भी लोग आने लगे हैं। इसके साथ ही किसान आंदोलन में अब राजनीतिक पार्टियां भी खुलकर समर्थन करने लगी हैं और कृषि कानूनों पर राजनीति जमकर शुरू हो गई है। 26 जनवरी की हिंसक घटना के बाद लगने लगा था कि किसानों का आंदोलन खत्म हो जाएगा, लेकिन भाजपा के कुछ नेताओं के बयान के बाद आंदोलन को एक नई धार मिलती हुई नजर आ रही है। सभी पार्टियां अब एकजुट होकर दिल्ली बॉर्डर पर किसानों को फिर से भेजने लगी हैं।  ये मुद्दा संसद के अंदर भी उठना चाहिए... गाज़ीपुर बॉर्डर से राष्ट्रीय लोकदल के नेता जयंत चौधरी ने कहा कि, आज संसद के सत्र का पहला दिन है और ये मुद्दा संसद के अंदर भी उठना चाहिए। अगर सरकार पीछे हटती है तो इससे उनकी कमजोरी नहीं झलकेगी। प्रधानमंत्री सब विषयों पर बोलते हैं, किसान के बारे में भी बोल दें।  झूठे आरोप लगाकर हराना चाहती है भाजपा समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिले

महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद ने पकड़ा तूल: उद्धव की विवादित बेलगाम क्षेत्र को केंद्र शासित बनाने की मांग के बाद गरमाई राजनीति

डिजिटल डेस्क, मुंबई। महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद एक बार फिर तूल पकड़ रहा है। विवादित बेलगाम क्षेत्र को केंद्र शासित बनाने की मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की मांग के बाद कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री लक्ष्मण साबदी के मुंबई को केंद्र शासित बनाने की मांग के बाद महाराष्ट्र की राजनीति गरमा गई। भाजपा शासित राज्य के उपमुख्यमंत्री के बयान सत्ता पक्ष आक्रामक है, जबकि भाजपा ने भी साबदी के बयान से असमती जताई है।   याद रखें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ठाकरे हैः राऊत शिवसेना सांसद संजय राऊत ने चेतावनी देते हुए कहा कि कर्नाटक सरकार याद रखे कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे हैं। उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट में सीमा विवाद मामले में जो होना है, वह होगा लेकिन कर्नाटक सरकार यह न भूले कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री ठाकरे हैं। राऊत ने कहा कि कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री लक्ष्मण सावदी को इतिहास समझ लेना चाहिए। यह लड़ाई अपनी भाषा और संस्कृति टिकाए रखने की है। कोई कुछ भी कहे हमें फर्क नहीं पड़ता है। उन्होंने कहा कि मुंबई और महाराष्ट्र में कन्नड़ भाषी लोगों पर राज्य सरकार ने सख्ती नहीं की है। महाराष्ट्र में उद्योग

जम्मू-कश्मीर: बांदीपोरा में जैश-ए-मोहम्मद का आतंकवादी गिरफ्तार, हथियार और गोला-बारूद जब्त

डिजिटल डेस्क, श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (JeM) के एक सक्रिय आतंकवादी को गिरफ्तार किया गया और उसके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद जब्त किया गया है। पुलिस ने गुरुवार को यह जानकारी दी। पुलिस ने कहा कि विश्वसनीय सूचना के आधार पर सोपोर से बांदीपोरा तक आतंकवादियों की आवाजाही के संबंध में पता चला था, जिसके बाद बांदीपोरा पुलिस की ओर से जिले के पटुशाही में सुरक्षा बलों के साथ एक संयुक्त विशेष चौकी की स्थापना की गई। आतंकी के कब्जे से भारी मात्रा में गोला-बारूद बरामद जांच के दौरान आतंकवादी को बांदीपोरा के पंजिगाम निवासी इम्तियाज अहमद खान के रूप में पहचाना गया। पुलिस ने कहा कि उसके कब्जे से हथियार और गोला-बारूद सहित अन्य सामग्री बरामद की गई है। पुलिस रिकॉर्ड के अनुसार, वह जैश-ए-मोहम्मद से जुड़ा हुआ है। हाल ही में गिरोह में शामिल हुआ था आतंकी पुलिस ने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चलता है कि उक्त आतंकवादी हाल ही में आतंकवादी गिरोह में शामिल हुआ है। उसे सोपोर और बांदीपोरा शहरों में विध्वंसक गतिविधियों को अंजाम देने का काम सौंपा गया था।  आदिपोरा इलाके से सेन

Corona in India: देश में अब तक 28.47 लाख लोगों को लगी वैक्सीन की पहली डोज, बीते 7 दिन में 146 जिलों में एक भी नया मामला नहीं

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कोरोना के खिलाफ जंग के तहत अब तक देश में 28 लाख से ज्यादा लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार गुरुवार शाम 7 बजे तक 28,47,608 लोगों को कोविड की वैक्सीन लगाई गई। कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित महाराष्ट्र-दिल्ली समेत 6 राज्यों में अब तक 21% से भी कम वैक्सीनेशन हुआ है।  कोरोना वायरस टीकाकरण अभियान के बीच देश में यह महामारी काबू में आती जा रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने बताया कि बीते 7 दिन में देश के 146 जिलों में कोरोना संक्रमण का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। हर्षवर्धन ने गुरुवार को कहा कि भारत ने कोविड-19 महामारी के प्रसार को बहुत हद तक रोक दिया है और देश के 146 जिलों में पिछले सात दिनों में इसका एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि इसके अलावा, 18 जिलों में 14 दिनों से, छह जिलों में 21 दिनों से और 21 जिलों में पिछले 28 दिनों से कोरोना वायरस संक्रमण का एक भी नया मामला सामने नहीं आया है। कई राज्यों में वैक्सीनेशन की रफ्तार धीमी महाराष्ट्र-दिल्ली के अलावा तमिलनाडु, झारखंड, उत्